pankaj tripathi biography in hindi | पंकज त्रिपाठी जीवनी

चलिए आज जान लेते हे पंकज त्रिपाठी के बारे में  ,एक इसे अभनेता के बारे में जो आज सबसे लोकप्रिय हो रहे हे  मिर्ज़ापुर २ इस सबसे लोकप्रिय वेबसीरीज में काम करने वाले इस व्यक्ति का नाम हे पंकज त्रिपाठी जो आज कल बहुत फेमस हो रहे हे।  गोपालगंज जिले के रहने वाले पंकज त्रिपाठी का जीवन बहुत कठिनायोसे गुजरा हे। और ये कोई सोच भी नहीं सकता की एक किसान का बेटा आज बॉलीवुड में इतना फेमस हो जायेगा। तो चलिए जानते हे की गांव से बॉलीवुड का सफर पंकज त्रिपाठी का जीवनी। 

पंकज त्रिपाठी जीवनी | pankaj tripathi age

पंकज त्रिपाठी का जन्म ५  सितम्बर १९७४   हुआ था। पंकज त्रिपाठी बिहार के गोपालगंज जिले के रहने वाले हे। एक किसान के घर में जन्म लेने वाले पंकज त्रिपाठी का जीवन बहुत साडी कठिनायोसे गुजर रहा था। उनके घर में २ भाई और २ बहने भी थी। ४२ साल के पंकज को बचपन से ही एक्टिंग करने में रूचि थी। और ओह अबने दोस्तों के साथ भी एक्टिंग किया करते रहते थे। पंकज त्रिपाठी ने अपने गांव की छठ मोहतयव के कार्यक्रम में भी एक लड़कीका किरदार निभाया था। 
उनका ओह किरदार गाववालोको इतना पसंद आता था की ओह उनको फिम्ल में जाने की सलफ देते रहते थे। फिर यह से पंकज त्रिपाठी ने भी यह थान लिया की ओह अभी एक्टिंग में ही करियर करना चाहते हे। हलाकि यह उनको फैसला लेना काफी आसान था लेकिन उसको पूरा करना उतनाही मुश्किल था। किउ की एक किसान के बेटे ने ये भी ठान लिया था की मुझे करियर भी करना हे हे तो एक्टिंग में ही करूँगा।  

pankaj tripathi करियर 

शुरवाती समय की पढाई पूरी करने बाद ओह आगे की पढाई करने के लिए पटना आ गए। ओहा पर ओह राजनीतिमे भी एक सक्रीय थे। तब ओह उनके पटना में रहने के लिए खर्चे के लिए उन्होंने पटना के होटल में नौकरी भी की। ७ साल पटना में बिताने के बाद उनको यह समझ आया की जब तक ओह बड़े शहरोमे नहीं जाते तब तक उनको फिल्म जाना मुश्किल हे। 
इसी सोच के साथ पंकज त्रिपाठी दिल्ली आ गए। उन्होंने नेशनल स्कूल ऑफ़ ड्रामा में एडमिशन लिया। और २००४ में ओह उधर से ग्रजवेट भी हो गए। और इसी साल १५ जनवरी को उनकी शादी भी हो गयी। और शादी बाद उनके ऊपर घर की काफी जिमेदारियाभी थी। और उनको उनके करियर को भी काफी आगे तक ले जाना था। पंकज त्रिपाठी इस सोच को लेकर मुंबई शिफ्ट हो गए। हापे उन्होंने एक्टिंग के काम की तलाश करनी शुरू कर दी। 

pankaj tripathi movies

हलाकि शुरवाती कुछ महीने उनको दर दर भटकने के बाद भी उन्हें कोई भी काम नहीं मिल सका। लेकिन ओह काफी महीनो तक ऑडिशन देते रहे और फिर बाद में उनको टीवी शो में छोटे छोटे रोल मिलने चालू हो गए। हकलि यह काम उनको इतने भी पैसे नहीं दे सकता की उनका घर ठीक तरह से च पाए। हलाकि उनको फिल्म में २००४ में एक रोल मिल गया था रन फिल्म में। और इसे ही करते आगे कई सालो तक पंकज छोटे मोठे रोल करते रहे। और समय भी आगे चल कर हो चूका था २०१० का इसी साल स्टार प्लसएक शो गुलाल में  त्रिपाठी काम कर रहे थे और तभी उनके कास्टिंग डायरेक्टर ने उनको अगली फिल्म में लेने का वडा किया तभी ओह उस फिल्म का ऑडिशन देने गए तब उनका ऑडिशन ८ घाटे तक चला तभी ओह उनके एक्टिंग में संतुष्ट नहीं थे तब उनको गैंग ऑफ़ वासेपुर में उनके सुल्तान का रोल मिल गया। और ओह फिल्म टीम वर्क की वजह से काफी फेमस भी हो गयी। 
गैंग ऑफ़ वासेपुर इतनी फेमस हो गयी। तभी से पंकज त्रिपाठी फिल्म वालो के नजरो में आने लगे। और उसके बाद उनको अचे कैसे रोल भी मिलने चालू हो गए इसमें फुकरे जैसे फिल्म काम करने का मौका मिल गया। उनको newtan फिल्म के लिए नेशनल पुरस्कार भी मिल चूका हे। 
साल २०१८ में साल की सबसे लोकप्रिय वेब्सिराज सीक्रेट गेम्स और मिर्ज़ापुर जैसे वेब्सिरिज में अपने एक्टिंग का जलवा दिखा चुके हे। 
हल ही में आयी वेब्सिरिज मिर्ज़ापुर २ में भी उनकी एक्टिंग को काफी लोगो द्विरा प्यार मिला हे। और मिर्ज़ापुर २ वेब सीरीज लोगोको बहुत पसंद भी आने लगी हे 
तो चलिए दोस्तों good by हम आशा करते हे की यह बायोग्राफी आपको अछि लगी तो आप निचे कमेंट में जरूर बता देना। 

pankaj tripathi Wife 

पंकज त्रिपाठी के वाइफ का नाम Mridula Tripathi हे।और पंकज त्रिपाठी का लव मेरेज हो चूका हे पंकज उनके शादि से पहले उनके लिए गाने गेट रहते थे। और उनको लड़की भी हे। 

पंकज उन कठिन दिनों को याद करते हुए कहते है  –
“मैं अपने गाँव से पटना के लिए हर महीने 3 बजे सुबह ट्रेन पकड़ता था । मैं अपने गाँव से चावल, दाल और सरसों का तेल अपने कंधे पर जूट के बोरे में भरकर लेकर आता था । इन सामग्रियों का उपयोग कर मै पूरे वर्ष खिचड़ी बनाता था और खाता था.”
पंकज कहते है –
“मैं हर नकारात्मक किरदार में सकारात्मकता लाना चाहता हूं. किसी भी प्रकार की एक्टिंग हो उसमें रस बना रहना चाहिए क्योंकि दर्शक उसी वजह से मुझे देखेंगे. नीरस हो जाऊंगा तो लोग सिनेमा हॉल में 200 रुपया का टिकट लेकर मेरा प्रवचन सुनने नहीं आएंगे.”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *