Joe Biden की जीवनी । Joe Biden biography in Hindi

Joe Biden की जीवनी

चलिए दोस्तो आज जान लेते एक इसे व्यक्ति के बारे में जो आज दुनियाके सबसे बड़े पावरफुल देश का प्रसिडेंट बना है ।आज हम बात कर रहे है जो बाइडन के बारेमे है अपने  बिल्कुल सही सुनो क्योंकि इस समय जिस लड़के की हम बात कर रहे हैं उसका नाम है जो बाइडन है  और दोस्तों आज की हमारी इस पोस्ट  में हम आपको जो बाइडन के शुरुआती जीवन से लेकर उनके संघर्ष और प्रेसिडेंट बनने तक की पूरी कहानी बताएंगे तो चलिए अब हम आपको बताते है जो बाइडन की जीवनी।

 

Update:-

 joe biden ने चुनाव जीत लिया है. आख़िरकार joe biden ने बहुमत के आंकड़े (270)को हासिल कर लिया और 290 इलेक्टोरल वोट हासिल किये. 

डोनाल्ड ट्रम्प को 214 इलेक्टोरल ही मिले. 

Joe biden को 7,48,57,880 वोट मिले. 

वही ट्रंप को 7,05,98,535वोट मिले. 
Joe Biden हाल ही में अमेरिका के 46 राष्ट्रपति बने उनका जीवन बहुत ही ज्यादा कठिनाइयों से भरा हुआ है । वह खुद की एक जीती जागती मिसाल है ईमानदारी से काम करते हुए कामयाबी के पीछे उनके जीवन की बहुत सारी कठिया से गुजर रहा था Joe Biden का जन्म के बाद ही उनके पिता का काम बंद हो गया और । 
उनके पिता का काम पूरी तरह से बंद हो गया और काम बंद होने के बाद से जो बाइडन के  पिता नौकरी की तलाश में निकल पड़े थे और जो हालात को देखते हुए अपनी फैमिली के लिए कोई भी छोटी से छोटी नौकरी करने के लिए भी तैयार थे लेकिन उस समय की मंदी का दौर चल रहा था इसी वजह से उन्हें नौकरी मिलना बहुत ही मुश्किल हो गया और जब तक नौकरी की तलाश करते रहे तब तक उन्होंने अपना बचपन मेंनौकरी में मिली थी जिसकी वजह से उनकी पूरी फैमिली को डेलावेयर के नामक शहर में शिफ्ट होना पड़ा और इस शहर में जो बाइडन  की पूरी फैमिली कई सालों तक एक छोटे से अपार्टमेंट में रहती थी और इसी शहर में ही जो बाइडन अपने हाईस्कूल की भी पढ़ाई खराब परिस्थितियों की वजह से बचपन से ही पढ़ाई लिखाई में बहुत कमजोर थी और वह काफी मेहनत करने के बाद भी नहीं कर पाते।
Joe Biden में स्कूल की समय मे  एक लीडर बनने के गुन भी मौजूद थे और इसीलिए उन्हें उनकी क्लास का प्रेसिडेंट में बनाया गया था और उस समय शायद ही किसी ने सोचा होगा कि जिस लड़के को क्लास का प्रेसिडेंट बनाया जा रहा है आगे चलकर देश का प्रसिडेंट बन सकता था लेकिन वह अपनी समस्या की वजह से नहीं बोलनहीं बल्कि नॉर्मल बातचीत करने में भी उन्हें बहुत ही ज्यादा समस्या होती थी और उनके हकलाने की वजह से ही स्कूल में उनको डेस्क आकर चढ़ाया जाता था और दोस्तों अपने इस समस्या को दूर करने के लिए बहुत ही ज्यादा मेहनत करते थे और अपने एक इंटरव्यू में उन्होंने बताया था कि वह अपनी हकलाने की समस्या को दूर करने के लिए शीशे के सामने खड़े होकर कई कई घंटे तक कविताएं पढ़ा करते थे इसके अलावा अपनी जुबान पर एक पत्थर भी किया करतेऔर तब तक उनके पिता का काम भी काफी स्टेबल हो गया था और दोस्तों जो बाइडन  के पिता ने विल्मिंगटन शहर में घर खरीद लिया था जिसके बाद उनका पूरा परिवार क्लाउड से विल्मिंगटन शिफ्ट हो गया और दोस्तों इसके बाद अपॉइंटेड यूनिवर्सिटी आफ डेलावेयर में एडमिशन ले लिया और वहां उन्होंने हिस्ट्री पॉलिटिकल साइंस की पढ़ाई शुरू कर दीइसकी क्लास में उनकी रैंक 506 रही थी और उनको सीक्रेट दिया गया था ।
 इसके बाद फाइनेंस सेराक्यूज यूनिवर्सिटी में भी एडमिशन ले लिया और यहां उन्होंने लॉ की पढ़ाई करनी शुरू कर दी और यूनिवर्सिटी में उनकी मुलाकात हुई थी और फिर साल 1966 में पढ़ाई पूरी होने से पहले ही दोनों ने शादी कर ली इस बार उनकी क्लास में पचासी स्टूडेंट से इसमें कि उन्होंने 75 वीं रैंक हासिल की थी और इस बात से आप अंदाजा लगा सकते हैं कि पढ़ाई लिखाई में बिल्कुल भी अच्छी नहीं थी इसका मतलब नहीं थाऔर फिर आगे कुछ सालों के बाद 1970 में माइलेज वोट काउंटिंग काउंसिल की सीट के लिए चुन लिया गया जिसके बाद वह 1972 तक काउंसिल की सेवा करने के साथ-साथ अपनी लॉ की प्रेक्टिस करते रहे और उस समय लोग ब्रिटेन के काम और उनकी लीडरशिप क्वालिटीज से काफी प्रभावित हुए थे और लोगों ने जो बाइडन  को सुझाव दिया था अगला चुनाव भी लड़ना चाहिए और फिर बात को मानते हुए चुनाव की तैयारी शुरू कर दोदरअसल हुआ या 11 दिसंबर 1972 के दिन फाइनल की पत्नी और उनकी 1 साल की बेटी सड़क दुर्घटना में मौत हो गई और इस दुर्घटना में उनके दोनों बेटे रॉबर्ट और जो भी बेहद गंभीर चोटें आई और अचानक हुई इस दुर्घटना में आए दिन को पूरी तरह से तोड़ कर रख दिया और फिर उन्होंने कुछ समय के लिए पॉलिटिक्स पर ध्यान दें से 2009 तक सीनेटर के पद पर ही कार्य करते रहें ।
Joe Biden biography in Hindi
 दोस्तों से टकराते हुए अपने काम से सभी को बहुत प्रभावितऔर इस तरह सेवा अमेरिका के 47 में वाइस प्रेसिडेंट बराक ओबामा और एक-दूसरे के काफी करीबी माने जाते हैं और कई बार दोनों को एक दूसरे की तारीफ करते हुए भी देखा जा सकता है और 2020 के चुनाव में विचार करने के बादऔर दोस्तों इस बार यानी कि 2020 के प्रेसिडेंट चुनाव में भी ओबामा ब्रिटेन के सपोर्ट में कैंपेनिंग करते हुए नजर आए थे वैसे आपको बता दें कि पेटर्न 2020 के प्रेसिडेंट इलेक्शन लड़ने के बारे में शोआर  नहीं थे और काफी सोच-विचार करने के बाद ही उन्होंने यह फैसला लिया और अब जबकि अमेरिका के प्रेसिडेंट बन चुके हैं सौम्या का सकते हैं उनका फैसला किया थाइतना ही था आपको हमारी यह पोस्ट कसी लगी आप हमें नीचे कमेंट करके जरूर बात ना।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *