सबसे कम उम्र में चालू किये जानेवाले StartUp

  • दोस्तों भारत हे एक दुनियाका इसा देश हे जो युवा  प्रतिभा से भरा पड़ा हे ,अगर जरुरत हे तो उस उस युवा प्रतिभा को पहचाने की  और उसे एक सही दिशा देने की ,ओह यह युवा हे जिनका नाम आनेवाले समय में भर हे  सुनहरे अक्षर से लिखा जायेगा  ,और ये आज भारत के युवा के लिए प्रेरणा का स्त्रोत सबसे  अपने जीवन  अलग करना  चाहते ,हे 
  • दोस्तों में आपको इस पोस्ट  पहले आप हमारे इस पोस्ट को लाइक और शेयर  जरूर करना की दूसरे लोगोको भी आपसे पेरणा  मिलनी  चलिए।  
  • दोस्तों इस  लिस्ट में सबसे पहले  नाम आता  हे सुहास गोपीनाथ का कीहालिये जानते हे सुहास गोपीनाथ की लाइफ के बारे में। 

  • सुहास गोपीनाथ


    • सुहास का जन्म ४ Nov १९८६ को एक मिडल क्लास फॅमिली में हुआ हे।  इनके  इंडियन आर्मी में एक साइंटिस्ट थे और इनकी स्कूल की शिक्षा  बंगलोरर में हुए हे.. सुहास गोपीनाथम जिनकाखुदका  Gobile  INC  के CEO   फाउंडर हे।  दुनिया केर सबसे कम उम्र के CEO  हे।  सुहास को मल्टिनैशनल कंपनी के मालिक हे। सुहास को इंडिया के बिल गेट्स भी  कहा जाता हे।   

       रितेश अग्रवाल 

    • दोस्तों  प्रतिभा उम्र की कभी मोहताज नहीं होती।  दोस्तों इस कहानी  होती हे १६ Nov  १९९३ को जब ओडिसा के छोटे शहर में रितेश अग्रवाल का जन्म हुआ।  अपनी स्कूल की शिक्ष्य पूरी करने के बात ओह IIT  की तैयारी करने के लिए ओह कोटा आ गए और यहाँ पर   आने के बाद दोस्तों के उहा वहा पर घूमना भी उनका चलता रहता हे  .साथ ही में   सार्थ में एक किताब भी लिखी जीका नाम था टॉप १०० इंजनियरिंग कॉलेज यह लिखा।
    •   पुरे स्टार्ट के बात २०१२ में अपनी ORAVAL STAYS  नामक एक कंपनी बनायीं इस कम्पनीओ का मुख्य उदेश था की काम दामों पर लोगो को कमरे उपलब्ध करके देना और जिसको भी ऑनलाइन बुक किया जा सकता हे।  बाद में इस कंपनी  बदल कर OYO  Rooms  नामक कंपनी बनायीं। और काम दमके साथ यात्रियोंके सुविधा पर भी ध्यान देने लगे।  और आज हर OYO  रूम्स का एक स्टैंडर सेट करके दिया हे जिसकी सभी होटल को पूरा करना होगा। इसी तरह OYO  देश की शानदार कंपनी बन गयी। 
    • तिलक मेहता 

    • दोस्तों आज हम एक इसे लड़के  बात करेंगे जो १३ साल की उम्र में आज दुनिको अपना टेलैंट दिखा रहा हे।  और हर बचे के लिए एक इन्स्पिरिक्षण हे।  दोस्तों मेआज बात कर रहा हु तिलक मेहता की जो आज सबसे कम उम्र के स्टार्टअप करने  हे।  हलाकि तिलक महज   कुढ़ की एक कंपनी शुरू की हे।  जिस कंपनी की  हम बात कर रहे के उसकी सुरवात होती हे२०१७ में एक आम बचे की तरह ही उनकी स्कूल की शिक्षा चल रहिओ थी।  
    • हलाकि तिलक को एक दिन अपने अंकल के  किताब लानी थी जब इस किताब को लेन के लिए उसने अपने पिताजी से बात की.  हलाकि  के काम   उन्होंने उनकी तरफ ध्यान नहीं  .  उन्होंने तब करियर से भी बुक मांगने की सोची पर शामे डे डिलेवरी लगभग ३०० रुपये मांगते हे।  तभी उन्होंने डबेवालोके साथ ही अपन कुड़का स्टार्ट उप शुरूकरने की सोची औरकाम से काम पैसो में उन्होंने करियर सर्विस  कंपनी चालू कर दी। 
    • दोसरतो आपको यह पोस्ट कासी लगी निचे कमेंट करके बताना।   

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    Exit mobile version